Sunday, September 18, 2016

बुंदेलखंड में राहुल गाँधी की खाट चर्चा पर किसान की वाट !

www.pravasnamakhabar.com and www.bundelkhand.in
बुंदेलखंड के बाँदा के अतर्रा ( बौदोसा ) में खाट पर किसान चर्चा के बीच राहुल गाँधी ! साथ में सदर विधायक विवेक सिंह ( साढ़े चार साल बाँदा शहर को आनाथ रखा है और विधायक निधि 30 % एडवांस पर बेच दी ) खंडित गुलाबी गैंग की संपत पाल इन्हे जब राहुल बाँदा / बुन्देलखण्ड आते है तब सेल्फी लेने का मन करता है ! कभी आज तक विवेक सिंह और संपत पाल किसी किसान आत्महत्या परिवार के देहरी में दिलासा / आखत देने नहीं पहुंचे ! विवेक सिंह साढ़े चार साल पुत्रमोह में कभी गाजियाबाद तो कभी लखनऊ उलझे रहे जनता तो जैसे वोट देने के लिए ही बनी है ! अगर आप लोकसेवा नहीं कर सकते तो आपको वेतन,भत्ते लेने का भी नैतिक हक नहीं है ! 



 गौरतलब है रैली के बाद खटिया किसान साथ ले गए ! राहुल गाँधी ने महोबा के पनवाड़ी में कहा कि बुंदेलखंड पॅकेज को बसपा-सपा ने चाट लिया ! तो आपने बीते सात साल में इसकी सीबीआई जाँच क्यों नहीं करवाई ? सुप्रीम कोर्ट जाते जैसे राबर्ट के लिए गए ! एक मंत्री आपने झाँसी में रख छोड़ा था बुंदेलखंड पॅकेज का रुपया एनजीओ जो बांटने को उन्हें लगाम क्यों नही लगाईं ! उधर मेरा कनवारा के टिकरियन पुरवा का दूध वाला कह रहा था सूखे - गर्मी में हम तपे और बारिश में इन्हे जपे !! यहाँ अशोक जमनानी की ये पंक्ति -
ठन्डे पड़े चूल्हों ने ख़त लिखे कई,
बेवफ़ा हैं रोटियां तोंदों में बस गईं ! 

बाँदा और चित्रकूट में राहुल गाँधी की किसान यात्रा को आम किसान ने महज लुफ्तबाजी की तरह सुना और उनकी सम्भल से मंगाई खटिया में अपने थके हुए देह को आराम देने का काम कर गये ! यहाँ किसानों ने खटिया भी तोड़ी जैसा तस्वीर में साफ है ! चुनावी परेड का जनता भी अच्छा लाभ ले रही है मगर सवाल ये कि इनसे असल विकास और यहाँ रोजगार के मुद्दे पूछेगा कौन ?
                           

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home